अनुभूति की आवाज में चोटों को स्मृतियां होने दो