….और इस तरह हर दर्द को खींच लेती है कविता