जिंदगी की असुविधा को कविता की तरह गुनगुना लीजिए