दुख कैसा? आज अपना हो ना हो, कल हमारा है