ये शायरी पूछती है थक कर क्यों बैठ गए हैं आप ?