रामदरश मिश्र कह रहे हैं- जहां सब पहुंचे छलांगें लगाकर, वहां मैं भी पहुंचा मगर धीरे-धीरे