जां निसार अख्तर की ये गजल दिखाती है हर आह को छिपाने का रास्ता